Friday, September 22, 2017
Home > Festivals > 15 August Poems,Quotes,ETC…

15 August Poems,Quotes,ETC…

15 August Poems,Quotes,ETC…

1)  Desh Bhakti Poem in Hindi Language

लाल रक्त से धरा नहाई,
श्वेत नभ पर लालिमा छायी,
आजादी के नव उद्घोष पे,
सबने वीरो की गाथा गायी,

गाँधी ,नेहरु ,पटेल , सुभाष की,
ध्वनि चारो और है छायी,
भगत , राजगुरु और , सुखदेव की
क़ुरबानी से आँखे भर आई ||

ऐ भारत माता तुझसे अनोखी,
और अद्भुत माँ न हमने पाय ,
हमारे रगों में तेरे क़र्ज़ की,
एक एक बूँद समायी .

माथे पर है बांधे कफ़न ,
और तेरी रक्षा की कसम है खायी,
सरहद पे खड़े रहकर,
आजादी की रीत निभाई.

Swatantrata Diwas Ki Hardik Shubhkamna

 

2) Happy Independence Day Poem in Hindi for Kids

हम बच्चे हँसते गाते हैं।
हम आगे बढ़ते जाते हैं।

पथ पर बिखरे कंकड़ काँटे,
हम चुन चुन दूर हटाते हैं।

आयें कितनी भी बाधाएँ,
हम कभी नही घबराते हैं।

धन दौलत से ऊपर उठ कर,
सपनों के महल बनाते हैं।

हम खुशी बाँटते दुनिया को,
हम हँसते और हँसाते हैं।

सारे जग में सबसे अच्छे,
हम भारतीय कहलाते हैं।

~Dr. Parshuram Shukla

 

3) Mera Pyara Desh Poem on Independence Day in Hindi

Pyara pyara mera desh,
Sajaa-sanwaara mera desh,
Duniya jis par garv kare–
Nayan sitaara mera desh.
Chaandi-sona mera desh,
Safal salona mera desh,
Sural jaisa aalokit–
Sukh ka kona mera desh.
Phoolon waala mera desh,
Jhoolon waala mera desh,
Ganga-Yamuna ki maala ka,
Phoolon waala mera desh.
Aage jaaye mera desh,
Nit naye muskaaye mera desh.
Itihaason mein barh-charh kar
Naam likhaaye mera desh

Happy Independence Day 2017

 

4) Sad Emotional Desh Bhakti Kavita

हम तो आज़ाद हुए लड़कर पर
आज़ादी के बाद भी लड़ रहे है
पहले अंग्रेजो से लड़े थे
अब अपनों से लड़ रहे है
आज़ादी से पहले कितने
ख्वाब आँखों में संजो रखे थे
अब आजादी के बाद वो
ख्वाब ,ख्वाब ही रह गए है
अब तो अंग्रेज़ी राज और
इस राज में फर्क न लगे
पहले की वह बद स्थिति
अब बदतर हो गई है ..

 

5) Independence Day Kavita in Hindi

Uth mere veer javan uth,
Uth mere veer javan uth,
Lahlahaati is dharti me aaj,
Fir nayaa josh aaya hai !
Kadam apne dagmagaane na dena,
Kyonki jaane vala yah kala sayaa hai !
Uth mere veer javan uth,
Uth mere veer javan uth,
Svatantrataa ka samay ab aaya hai
Svatantrataa ka samay ab aaya hai !
Laal, baal, paal, jaiso ne jo kasme khaai thi,
Use pura karne ka samay ab aaya hai !
Bahut kiya raaj angrajo ne,
Aaya samay ab hamara hai !
Uth mere veer javan uth,
Svatantrta ka samay ab aaya hai !

 

~ Sunil Yadav

 

6) Very Sad Independence Day Poem in Hindi

ये कैसी आज़ादी है ,
हर तरफ बर्बादी है ,
कही दंगे तो कही फसाद है ,
कही जात पात तो कही ,
छुवा छूत की बीमारी है |
हर जगह नफरत ही नफरत ,
तो कही दहशत के अंगारे है
क्या नेता क्या वर्दी वाले ,
सभी इसके भागीदारी है .

 

7) Best Indian Patriotic Poems in Hindi Fonts

चंदन है इस देश की माटी तपोभूमि हर ग्राम है
हर बाला देवी की प्रतिमा बच्चा बच्चा राम है || ध्रु ||

हर शरीर मंदिर सा पावन हर मानव उपकारी है
जहॉं सिंह बन गये खिलौने गाय जहॉं मॉं प्यारी है
जहॉं सवेरा शंख बजाता लोरी गाती शाम है
हर बाला देवी की प्रतिमा बच्चा बच्चा राम है || 1 ||

जहॉं कर्म से भाग्य बदलता श्रम निष्ठा कल्याणी है
त्याग और तप की गाथाऍं गाती कवि की वाणी है
ज्ञान जहॉं का गंगाजल सा निर्मल है अविराम है
हर बाला देवी की प्रतिमा बच्चा बच्चा राम है || 2 ||

जिस के सैनिक समरभूमि मे गाया करते गीता है
जहॉं खेत मे हल के नीचे खेला करती सीता है
जीवन का आदर्श जहॉं पर परमेश्वर का धाम है
हर बाला देवी की प्रतिमा बच्चा बच्चा राम है ||

 

8) Inspirational Poem on Independence Day 2017

Bharat maa ke amar saputon,
Path par aage badhate jaana.
Parwat nadiyaan aur samandar,
Hans kar paaya sabhi kar jaana.
Tumame Himgiri ki unchaayi,
Saagar jaisi geharaayi hai.
Leharon ki masti hai tum mein,
Suraj jaisi tarunaayi hai.
Bhagat Singh, Rana Pratap ka,
Behata rakt tumhaare tan mein,
Gautam, Gandhi, Mahaveer sa,
Rehata satya tumhaare man mein.
Sankat aaya jab dharti par,
Tumane bhishan sangraam kiya.
Maar bhagaaya dushman ko fir,
Jag mein apana naam kiya.
Aane waale naye vishav mein,
Tum bhi kuchh kar ke dikhlaana.
Bharat ke unnat lalaat ko,
Jag mein unchaa aur uthaana.

 

9) शहीद की मां को प्रणाम

कर गयी पैदा तुझे उस कोख का एहसान है
सैनिकों के रक्त से आबाद हिन्दुस्तान है
तिलक किया मस्तक चूमा बोली ये ले कफन तुम्हारा
मैं मां हूं पर बाद में, पहले बेटा वतन तुम्हारा
धन्य है मैया तुम्हारी भेंट में बलिदान में
झुक गया है देश उसके दूध के सम्मान में
दे दिया है लाल जिसने पुत्र मोह छोड़कर
चाहता हूं आंसुओं से पांव वो पखार दूं
ए शहीद की मां आ तेरी मैं आरती उतार लूं

 

10) Cute Desh Bhakti Poem for Children

Nanhe nanhe pyaare pyaare,
Gulshan ko mehakaane waale,
Sitaare jamin par laane waale
Hum bachche Hindustan ke.

Naye jamaane ke diwaale,
Toofaan se na darnw waale,
Kahalaate hain himmat waale,
Hum bachche Hindustan ke.

Chalate hain hum shaan se,
Bachate hain hum dvesh se,
Aan pe ho jaayein kurbaan,
Hum bachche Hindustan ke.

 

11) Bharat Desh Kavita

Maathe par giri-raj himalay
Baccho apni shan hai dikhaata
Charno mein bhaarat mata key
Saagar bhi hai sheesh jhukaata
Paschhim aur purab ke jungal mein
Bhaag sher sab paye jaatey
Nadiyo mein ghadiyaal magar sub
Apnaa roop dikhaatey
Mitti ore hawaa deti hai
Dharti ko mohak pareevesh
Issi liye toh pyaare baccho
Anokha sabsey bhaarat desh!

 

12) Cute Funny Happy Independence Day Kavita

Lal kille ke aas paas hai aajadi ka mela
Sabse upar naach raha hai jhanda ek akela

Kadam badhake sina taane fauji aate jaate
Pure nau nau bache saare chane kurkure khate

Sabhi kahte hain aaj ke din aajad hua tha desh
Sabhi kahte hain aaj ke din angrejon ka raj hua tha sesh

Abhi kuch to samajh na aaye aajaadi aur desh
Hum to chhat se dekh rahein hain patang patang ke pesh

Humse koi puchhe bachon aajaadi kya hoti hain
Hum kah denge us din sabki puri chhuti hoti hain  🙂

tech2gyaan
Kamlesh Bishnoi is the chief Seo Expert and The Founder if "Tech2gyaan.com" I have very deep interest in technology topics my passion and my dedication leads to my success
http://www.tech2gyaan.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar